Header Ads

रिलायंस जियो का बड़ा फ़ैसला यूज़र्स अब नहीं देख सकेंगे अश्लील वीडियो

हेलो दोस्तो कैसे हो आप सब उम्मीद है सभी ठीक और फिट फाट होंगे तो मित्रों अभी हाल ही में यह ख़बर आयी थी कि भारत सरकार ने इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडरों से अश्लील सामग्री वाले 827 वेबसाइटों को बैन करने के लिए कहा है,  यह ऑर्डर उत्तराखंड उच्च न्यायालय द्वारा पारित किया गया था, अदालत ने कंपनियों से एक्स वीडियो रखने वाले 827 वेबसाइटों को बैन करने का फरमान जारी किया था।

image credit : www.financialexpress.com
इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय (एमटीआई) ने अपने आदेश के हिस्से के रूप में जारी लिस्ट में नामित 827 वेबसाइटों को बैन करने के लिए डीओटी से भी पूछा एक आदेश में, दूरसंचार विभाग ने कहा, "सभी इंटरनेट सेवा लाइसेंसधारियों को राज्य से दिशानिर्देशों के अनुसार 827 वेबसाइटों को अवरुद्ध करने और माननीय उच्च न्यायालय के आदेश का अनुपालन करने के लिए तत्काल कार्रवाई करने का निर्देश दिया जाता है।

इसी सिलसिले में रिलायंस जियो ने एक ठोस कदम उठाया है और कुछ नेटवर्कों को अपने नेटवर्क पर एक्ससेस करने से बंद कर दिया है। दूरसंचार ऑपरेटर ने डीओटी के आदेश के बाद वेबसाइटों को बैन करने शुरू कर दिया है, हालांकि कंपनी ने इसके बारे में कोई ऑफिशियल बयान जारी नहीं किया है, वही लेकिन कुछ रिलायंस जियो यूज़र्स ने रेडडिट पर रिपोर्ट की है कि वे जिओ होम नेटवर्क पर वयस्क सामग्री देखने वाली वेबसाइटों को एक्ससेस करने में असमर्थ हैं।

रिलायंस जियो यूज़र्स ने रेडडिट पर पोस्ट किया, "मैं कुछ एडल्ट साइटों को लोड करने की कोशिश कर रहा हूं लेकिन उनमें से कोई भी जिओ नेटवर्क पर लोड नहीं कर रहा है, क्या यह असुविधा सिर्फ मुझे हो रही है या आप सभी को इस दिक्कत का सामना कर रहे हैं?" कुछ यूज़र्स ने यह भी कहा कि कंपनी ने बैन किया है दूसरी तरफ कुछ लोग अभी भी उसी नेटवर्क पर मटेरियल उपलब्ध हैं।

हमने भी जब इस बात की सच्चाई पता करनी चाही जिओ नेटवर्क पर तो कुछ वयस्क वेबसाइटों तक पहुंचने की कोशिश भी किया लेकिन ऐसा करने में सक्षम नहीं थे, वहाँ  एरर संदेश दिखाई दिया जिसमे वेब पेज नॉट फाउंड  शो हो रहा है।

जुलाई 2015 में एक आदेश जारी किया गया था, जब मेटी ने वयस्क सामग्री वाले 857 वेबसाइटों को बैन करने के लिए डीओटी से पूछा था, तो डीओटी ने 4 अगस्त, 2015 को अपना ऑर्डर बदल दिया, जिसमें कहा गया है कि इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर 857 वेब लिंक में से किसी को डिसेबल करने के लिए स्वतंत्र हैं जिसमें बाल अश्लीलता नहीं हो।

दोस्तों, पोर्न साइट्स को बैन करना सही है या नहीं कृपया अपनी राय कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं साथ ही अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया तो कृपया इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें।

No comments:

Powered by Blogger.